14000 करोड़ रु के फ्रॉड में क्रेडिट सुइस बैंक के 3 पूर्व कर्मचारी गिरफ्तार, इनमें एक भारतीय मूल का

0
19

लंदन. 14,000 करोड़ रुपए (2 अरब डॉलर) के लोन घोटाले के मामले में क्रेडिट सुइस बैंक के 3 पूर्व कर्मचारी गुरुवार को गिरफ्तार किए गए। इनमें एक भारतीय मूल का है। एंड्रयू पीअर्स (49), सुरजन सिंह (44) और डेटेलिना सुबेवा (37) को लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि, बाद में जमानत मिल गई। अमेरिका इन तीनों का प्रत्यर्पण चाहता है। इन पर अमेरिका के रिश्वत विरोधी कानून का उल्लंघन करने की साजिश रचने, मनी लॉन्ड्रिंग और धोखाधड़ी के आरोप हैं। न्यूयॉर्क की अदालत में इनके खिलाफ केस चल रहा है।

  1. अमेरिका के वकील के मुताबिक तीनों आरोपी दक्षिण अफ्रीकी देश मोजाम्बिक की सरकारी कंपनियों को फर्जीवाड़ा कर दिए गए लोन के मामले में शामिल थे। इस मामले में मोजाम्बिक के पूर्व वित्त मंत्री मैनुएल चांग (63) की इसी हफ्ते दक्षिण अफ्रीका में गिरफ्तारी हुई थी।

  2. क्रेडिट सुइस बैंक का कहना है कि तीनों आरोपी पूर्व कर्मचारियों ने बैंक के आंतरिक नियंत्रण को फेल करने और निजी फायदे के लिए काम करते हुए लोन से जुड़ी जानकारियां छिपाने की कोशिश की।

  3. इस मामले में एक अन्य आरोपी जेन बोस्तानी बुधवार को न्यूयॉर्क से गिरफ्तार किया गया था। मूल रूप से लेबनान निवासी बोस्तानी मोजाम्बिक की कंपनियों से जुड़े अबू धाबी के कॉन्ट्रैक्टर के लिए काम करता है।

  4. क्या है पूरा मामला ?

    • साल 2013 से 2016 के बीच मोजाम्बिक की सरकारी कंपनियों ने क्रेडिट सुइस और वीटीबीबैंक की लंदन स्थित शाखाओं से14,000 करोड़ रुपए से ज्यादा लोन लिया था। मोजाम्बिककी सरकार लोन की गारंटर थी। साल 2016 से कंपनियों ने लोन चुकाने में डिफॉल्ट करना शुरू कर दिया।
    • आरोपों के मुताबिक चांग के वित्त मंत्री रहते हुए मोजाम्बिक में मैरीन प्रोजेक्ट्स के लिए 3 सरकारी कंपनियां बनाई गई थीं। लेकिन, इन्हें बनाने का मकसद चांग, बोस्तानी और तीनों आरोपी बैंकर्स को फायदा पहुंचाना था।
    • लोन की रकम में से 1400 करोड़ रुपए पांचों आरोपियों और मोजाम्बिक के कुछ अधिकारियों को डायवर्ट किए गए। आरोपियों ने अमेरिकी समेत दूसरे देशों के निवेशकों को गुमराह किया।
    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

      fraud schemes: indian origin banker held with 2 more in UK over usd 2 billion fraud schemes