सिंधु-श्रीकांत क्वार्टर फाइनल में, चिराग-सात्विक ने भी आखिरी-8 में जगह बनाई

0
12

फुजोओ (चीन). भारतीय शटलर्स किदांबी श्रीकांत और पीवी सिंधु ने चाइना ओपन विश्व टूर सुपर 750 बैडमिंटन टूर्नामेंट में अपने-अपने वर्ग के आखिरी आठ में जगह बना ली है। रियो ओलिंपिक में रजत पदक जीतने वालीं सिंधु ने महिला सिंगल्स के दूसरे दौर में थाईलैंड की बुसानन ओंगबामरंगफान को 21-12, 21-15 से हराया। वहीं, पुरुष सिंगल्स में श्रीकांत इंडोनेशिया के टॉमी सुगियार्तो के खिलाफ 10-21, 21-9, 21-9 से जीत हासिल करने में सफल रहे। श्रीकांत और सिंधु दोनों ही इस टूर्नामेंट में पूर्व में चैम्पियन रह चुके हैं।

  1. वहीं, पुरुष डबल्स में सात्विकसाईराज रंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की भारतीय जोड़ी भी आखिरी आठ में जगह बनाने में सफल रही। दोनों ने इंडोनेशिया के एडे यूसुफ सांतोसो और वहायू नयाका आर्या पंगकारयानिरा को 16-21, 21-14, 21-15 से हराया।

  2. 2016 की चैम्पियन सिंधु का महिला सिंगल्स में अगला मुकाबला अब आठवीं वरीयता प्राप्त चीन की बिंगजियाओ से होगा। बिंगजियाओ ने हॉन्गकॉन्ग की मिशेल ली को 18-21, 21-13, 21-18 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है।

  3. सिंधु को दुनिया की सातवें नंबर की महिला शटलर बिंगजियाओ के खिलाफ पिछले दो मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा है। दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ अब तक 12 मुकाबले खेले हैं। इनमें बिंगजियाओ सात, जबकि सिंधु पांच को जीतने में सफल रहीं।

  4. पुरुष सिंगल्स में श्रीकांत ने टॉमी सुगियार्तो को हराने में 45 मिनट का समय लिया। उनका अगला मुकाबला चीनी ताइपे के चोऊ टिएन चेन से होगा। 2014 में यहां पुरुष सिंगल्स में चैम्पियन रह चुके श्रीकांत मांसपेशियों में खिंचाव के कारण पिछले सत्र में भाग नहीं ले पाए थे।

  5. जकार्ता एशियाड में पुरुष सिंगल्स का रजत पदक जीतने वाले श्रीकांत पिछले तीन साल में दो बार चेन से हार चुके हैं। दुनिया के नौवें नंबर के पुरुष शटलर श्रीकांत अब तक सिर्फ एक बार चेन को हरा पाए हैं। यह जीत उन्होंने 2014 में हॉन्गकॉन्ग ओपन में हासिल की थी।

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today

      fuzhou china open 2018 pv sindhu kidambi srikanth reaches quarter final
      fuzhou china open 2018 pv sindhu kidambi srikanth reaches quarter final
      fuzhou china open 2018 pv sindhu kidambi srikanth reaches quarter final